सुदर्शन

नई साईट पर जायें – www.ksudarshan.in

Archive for the ‘election’ Category

मुक्केबाज राहुल गांधी (व्यंग्य/कार्टून)

Posted by K M Mishra on May 28, 2009

राहुल गांधी ने चुनाव के पहले 2 महीने तक द्रोणाचार्य पुरूस्कार विजेता मुक्केबाजी कोच श्री ओम प्रकाश भरद्वाज से मुक्केबाजी का विधिवत प्रशिक्षण लिया था अपने आप को चुस्त दुरूस्त रखने के लिए और आत्मरक्षा की कला सीखने के लिए ।

– हें ! जे बात थी । तभी मैं सोचूं कि हम जैसे खुर्राट अखाड़ेबाजों को कोई कैसे दिन में तारे दिखा सकता है । जाय छोरो ने तो मोको एकइ पंच में धूल चटाये दियो । – मुलायम सिंह यादव ।

Advertisements

Posted in कार्टून, चुनाव, मुक्केबाजी, राजनैतिक विसंगतियों, राष्ट्रीय, राहुल गांधी, सामाजिक, हिन्दी हास्य व्यंग्य, cartoon, election, Hasya Vyangya, Humor | Tagged: , , , , , , , , , , , | 6 Comments »

रामपुर की बसंती (जयाप्रदा) (व्यंग्य/कार्टून)

Posted by K M Mishra on May 16, 2009

=>नाच मेरी बुलबुल तुझे पैसा मिलेगा, ऐसा कदरदान तुझे कहां मिलेगा ।

=>मैं इतना ज़ोर से नाची आज, की घुंघरू टूट गये ।

=>जरा नचनिया के हाथ पांव तो देखो ।  बहुत करारे है साले ।  इ रामपुर की कौने चक्की का पिसा आटा खाती है ।

(चुनाव के दौरान रामपुर में जयाप्रदा के अश्लील पोस्टर लगाये गये थे और उनकी अश्लील सी.डी. बांटी गई थी । अमर सिंह का आरोप है कि ये शुभ काम आज़म खां के दिशा निर्देशन में किया गया था ।)

Posted in कार्टून, चुनाव, फिल्म, बाजार, बुराइयों, भ्रष्टाचार, मीडिया, राजनैतिक विसंगतियों, राष्ट्रीय, सामाजिक, हिन्दी हास्य व्यंग्य, cartoon, election, Hasya Vyangya, Humor | Tagged: , , , , , , , , , , , , , | 5 Comments »

मनमोहन सिंह की वफादारी (व्यंग्य, कार्टून)

Posted by K M Mishra on May 13, 2009

”सिख समाज 84 के दंगों को भूल जाए । इस मामले का पटाक्षेप हो चुका है ।                                                                                              – प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ।

=> ठीक ही कह रहे हैं मनमोहन सिंह जी आप, पर उपदेश कुशल बहुतेरे । चुनाव के वक्त कांग्रेस मुस्लिम संवेदनाओं को उभाड़ने के लिए गुजरात दंगों की माला जपने लगती है लेकिन 84 के दंगों के प्रतापी कांग्रेसी वीर जगदीश टाइटलर और सज्जन सिंह को निर्दोष साबित करने के लिएं सी.बी.आई. उन्हें क्लीनचिट दे देती है । सिख हो कर भी आप सिख समुदाय का दर्द नहीं समझ पा रहे हैं । सच्चा कांग्रेसी बनने के लिए क्या इस हद तक संवेदनहीन होना पड़ता है ।

Posted in 84 के दंगों, कार्टून, चुनाव, बुराइयों, भ्रष्टाचार, मीडिया, राजनैतिक विसंगतियों, राष्ट्रीय, सामाजिक, हिन्दी हास्य व्यंग्य, cartoon, election, Humor | Tagged: , , , , , , , , , , , | 3 Comments »

वादा तेरा वादा (हास्य/व्यंग्य, कार्टून)

Posted by K M Mishra on May 7, 2009

– नरेश मिश्र

साधो, कोटेदारों और कालाबाजारियों के लिए एक खुशखबरी, जल्दी ही उन्हें तीन रूपये किलो गेहूँ और चावल खरीद कर ग्राहकों से उसका मनमानी दाम वसूलने का मौका मिलेगा । कांग्रेस का मैनीफेस्टो कालाबाजारियों की उम्मीद बढाने वाला है । उन्हें मालामाल होने का मौका जरूर मिलेगा ।

कांग्रेस ने वादा किया है कि वह चुनाव जीतने के बाद देश के जरूरतमंदों को तीन रूपये किलो गेंहू और तीन रूपये किलो चावल मुहैया करायेगी । यह गेहूँ और चावल कहां से आयेगा? कांग्रेस के पास तो गेहूं, धान बोने    काबिल जमीन है नहीं । देश के खेतों में जो गेहूं, चावल पैदा होता है, उसे खरीदने के लिए सरकार को वाजिब कीमत देने में दुश्वारी महसूस होती है ।

मुल्क में इन दिनों सड़कें और कारखाने बड़े पैमाने पर बन रहे हैं । सड़कों और कारखानों को खाया नहीं जा सकता । अपने प्रदेश में ही गंगा एक्सप्रेस वे बन रहा है । इस सड़क पर बसपा की गाड़ी हाई स्पीड से दौड़ेगी । आम पब्लिक को कोई खास फायदा नहीं होगा । गाजियाबाद से बलिया को जोड़ने के लिए सड़क आज भी मौजूद है । लेकिन इस सड़क के निमार्ण में जिन पार्टियों को मोटी कमाई हुई है, उसमे बसपा शामिल नहीं है । बसपा को अपनी कमाई सुनिश्चित करने का जरिया चाहिए । केरल से कश्मीर और असम से गुजरात तक पार्टी प्रत्याशियों को चुनाव लड़ाने में काफी पैसा खर्च होता है । सड़क नहीं बनेगी तो पैसा कहां से आयेगा । पैसा नहीं आयेगा तो चुनाव के रास्ते मुल्क पर कब्जा कैसे किया जायेगा ।

साधो, ये पब्लिक है, सब जानती है । बदलाव की बात कौन करेगा । सिर्फ चंद बूढे नेता और रिटायर्ड आला नौकरशाह अंत समय में किताब लिख कर लोकतंत्र की बखिया उधेड़ते हैं । लेकिन वे किताबों में इस बात का जिक्र भूल कर भी नहीं करते कि जब उनके हाथ में सत्ता थी, तब उन्होंने बगावत का बिगुल क्यों नहीं फूंका ।

कबीरदास ने ठीक ही कहा है – ”करता था सो क्यों किया अब करि क्यों पछताय, बोया पेड़ बबूल का तो आम कहां से खाय ।” अपने लोकतंत्र में बबूल बोने की परम्परा बेरोकटोक चल रही है और जनता को आम खिलाने का वादा भी कायम है । मराठा छत्रप शरद पवार विदेशों से गेहूं, चावल खरीद कर लायेंगे और चुनावी वादा पूरा करेंगे ।

अर्थशास्त्रियों को यकीन है कि अगर केन्द्र सरकार सचमुच अपने वायदे के मुताबिक चुनाव जीतने पर सस्ता गेहूं और चावल जनता को मुहैया करायेगी तो खजाना खाली हो जायेगा । इस खजाने को लबालब भरने का नुस्खा भी उद्योगपतियों ने सरकार को सुझाया है । नासिक के प्रेस में करारे नोट छापें और बाजार में जारी कर दें । यह सौ दुखों का एक रामबाण इलाज है । सरकार अपने लोगों के लिए नोट नहीं छापेगी तो भी पाकिस्तान हमारे लिए नोट छापने से बाज नहीं आयेगा । पाकिस्तान में छपे नोट अपने मुल्क के बाजारों में धड़ल्ले से चल रहे हैं । इन नोटों ने बैंक के खजानों में भी अच्छी घुसपैठ बना ली है । यही हाल रहा तो पाकिस्तान में छपे नोट चलन में आ जायेंगे और अपने रिजर्व बैंक के गवर्नर साहब के दस्तखत वाले नोट बाजार से बाहर हो जायेंगे ।

मुल्क की इस हालत पर पर खुद देशवासियों को शर्म महसूस नहीं होती है । हम खुद शर्मिंदा नहीं है तो गैर मुल्कों को क्या पड़ी है कि वे हमारे लिए शर्मिंदा हों । हम तो ऑस्कर पा कर निहाल हैं, नेता वोट पाकर मालामाल हैं, नौकरशाह घूस खाकर संतुष्टि की डकार ले रहा है । सिर्फ इस मुल्क का आम आदमी बदहाल है । इस बदहाली पर टेसुए बहाने की जरूरत कतई नहीं है । हम तो ‘जय हो’ की धुन पर थिरकने से ही निहाल हो जाते हैं । मुल्क का क्या है, वह तो मनमोहन के मजबूत हाथों में महफूज है ।

=> ‘जय हो’

Posted in कार्टून, चुनाव, भ्रष्टाचार, राजनैतिक विसंगतियों, राष्ट्रीय, सामाजिक, हिन्दी हास्य व्यंग्य, cartoon, election, Hasya Vyangya, Humor | Tagged: , , , , , , , , , , , | 10 Comments »

मालिक की ससुराल का सवाल है । (कार्टून)

Posted by K M Mishra on May 3, 2009

=>किसी भले आदमी (क्वात्रोची) को परेशान करना अच्छा नहीं है । जबकि पूरी दुनिया कहती है कि उसके खिलाफ कोई मामला नहीं है । – मनमोहन सिंह ।

=>बिल्कुल आज इनके मालिक राजीव गांधी जिंदा होते तो क्या वो अपने इटैलियन साले (क्वात्रोची) का ख्याल न रखते । मालिक न सही, मालकिन तो हैं । पता नहीं अगली सरकार कांग्रेस की बने न बने । चलते-चलते मायके वालों का भी कल्याण करते चलें ।   इसलिए सी. बी. आई. ने क्वात्रोची के खिलाफ रेड कार्नर नोटिस वापस ले ली,  विपक्ष भले ही बोफोर्स दलाली के तमाम सबूत गिनाता रहे । दूसरे करें तो भ्रष्टाचार, हम करें तो सदाचार ।

Posted in आर्थिक, कार्टून, चुनाव, भ्रष्टाचार, मीडिया, राजनैतिक विसंगतियों, राष्ट्रीय, सामाजिक, हिन्दी हास्य व्यंग्य, cartoon, election, Hasya Vyangya, Humor | Tagged: , , , , , , , | 4 Comments »

फिर दगी बोफोर्स (कार्टून)

Posted by K M Mishra on April 30, 2009

बोफोर्स तोप की सलामी ग्रहण कीजिए श्रीमान क्वात्रोची ।

 

 

 

=>पहले जगदीश टाइटलर और सज्जन कुमार को 84 के दिल्ली दंगों में क्लीन चिट दे दी और अब क्वात्रोची महाराज के खिलाफ ज़ारी रेड कार्नर नोटिस वापस ले ली। सी. बी. आई. न हुई दस जनपथ के इशारों पर नाचने वाली तवायफ हुई ।

पढिए – नेहरू वंश और सोनिया गांधी का सच सुरेश चिपलूनकर के ब्लाग पर – http://sureshchiplunkar.blogspot.com/2007/04/blog-post_18.html

Posted in कार्टून, चुनाव, भ्रष्टाचार, राजनैतिक विसंगतियों, राष्ट्रीय, हिन्दी हास्य व्यंग्य, cartoon, election, Hasya Vyangya, Humor | Tagged: , , , , , , , , | 4 Comments »