सुदर्शन

नई साईट पर जायें – www.ksudarshan.in

Archive for the ‘कार्टूनपर आधारित ब्लाग’ Category

फिक्सिंग का मौसम (हास्य-व्यंग्य, कार्टून)

Posted by K M Mishra on March 28, 2009

                                                                                                               – नरेश मिश्र

साधो, सुना तमने! मैच फिक्सिंग के महारथी अजहरूद्दीन क्रिकेट का मैदान छोड़कर सियासत की घुड़दौड़ में शामिल हो गये हैं । अपने लोकतंत्र में सियासत ही ऐसा सर सब्ज और बड़ा मैदान है, जिसमें हर तरह के जानवर स्वछंद हो कर चर सकते हैं । यहाँ गाय, भैंस, भेड़, बकरी, गधे, घोड़े और खच्चर तक आसानी से खप जाते हैं । अपराध की दुनिया में कुख्यात हो चुके किसिम-किसिम के अपराधियों को प्रायश्चित करने के लिए राजनीति के तीर्थ में डुबकी लगानी पड़ सकती है । अपने महान लोकतंत्र के महान कानून के अनुसार जब तक कोई अपराधी अदालत से दोष सिध्द करार नहीं दिया जाता, तब तक वह चुनाव के मैदान में बेखटके चौकड़ी भर सकता है और इस मैदान की घास मनमाने तौर पर चर सकता है । निचली अदालत से सजा मिलने पर भी अपराधी के लिए हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा तो खुला ही रहता है । वह जमानत भी पा सकता है और चुनाव लड़ने की परमीशन भी । अपने संजू भइया उर्फ मुन्ना भाई सुप्रीम कोर्ट से परमीशन मिलने की उम्मीद पर आज कल लखनऊ लोकसभा क्षेत्र में चौकड़ी भर रहे हैं । अभी नहीं तो कभी नहीं । मान्यवर अटल जी की आत्मा मुन्ना भाई की उम्मीद्वारी सुनकर आकण्ठ तृप्त हो गई होगी ।

बहर कैफ चुनाव के मौसम में हर सियासी पार्टी फिक्सिंग करती है । कांग्रेस ने अजहरूद्दीन को फिक्स किया तो समाजवादी पार्टी ने संजू भइया को, दोनों में कोई खास फर्क नहीं है । अजहरूद्दीन को मुल्क की क्रिकेट टीम की कप्तानी के दौरान एहसास हुआ कि देश की शान बढाने के लिए लगातार जीत हासिल करने का कोई मतलब नहीं है । जीत के बजाय हार जाने से ज्यादा मुनाफा कमाया जा सकता है । जीतने पर सिर्फ फीस की बंधी रकम मिलती है। हारने पर दो नंबर की चकाचक कमाई होती है । इस कमाई पर कोई इनकम टैक्स भी नहीं भरना पड़ता है । अब बी.सी.सी.आई. ने उनके बोलने पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया है । तो कांग्रेस को उनकी महारत का ख्याल आया । आदमी काम का है, क्रिकेट मैच फिक्स कर सका है । तो चुनाव में कामयाबी भी हासिल कर सकता है । सियासत में ऐसे ही ज़हीन लोगों की शिद्दत से जरूरत पड़ती है ।

मुन्ना भाई बेहद नाबालिग दिमाग सुपर हीरो ठहरे । बेचारे नहीं जानते थे कि मुंबई के डॉन दाउद इब्राहिम के गैंग ने कोई अपराध किया है । आत्म रक्षा का शौक चर्राया तो ए.के.56 राइफल अपने घर में रख ली । मुंबई में धमाके हुए तो घबरा कर विदेश से फोन कर दिया कि घर में रखी राइफल तोड़कर बाहर फैंक दो । लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी । क्राइम ब्रांच के लाग बेहद बेदिल होते हैं । उन्हें संजू भाई की एक्टिंग से कुछ लेना देना नहीं था । अब अदालत ने उन्हें सजा सुना दी है तो वे राजनीति के घाट पर प्रवित्र डुबकी लगाने चले आये ।

फिलहाल कांग्रेस और समाजवादी पार्टी का फिक्सिंग अभियान जारी है । अजहरूद्दीन और संजू बाबा तो फिक्स हो गये । अब बिहारी बाबू शत्रुघ्न सिन्हा की बारी है । अमर सिंह ने सियासत की चूहेदानी में चारा लगा दिया है । बिहारी बाबू अगर चारे पर रीझ गये तो चूहेदानी में खट की आवाज होगी । समाजवादी जयकारा लगायेंगे । बिहारी बाबू टोपी का रंग बदल सकते हैं । सियासत में टोपी का रंग बदलते देर नहीं लगती है । सियासी प्राणियों के दिल का रंग कभी नहीं बदलता, वह सदैव काला रहता है । सरदार की काली कामर चढै न दूजौ रंग । अभी कांग्रेस की फिक्सिंग क्षमता का इम्तिहान चल रहा है । सियासत के मयखाने में हाथी पर सवार भुनगा नजर आता है ।

=> मैच तो बहुत फिक्स किये थे । इंशाल्ला ! अब देश फिक्स करने की बारी है ।

Posted in कार्टूनपर आधारित ब्लाग, कुरीतियों, चुनाव, भ्रष्टाचार, राजनैतिक विसंगतियों, राष्ट्रीय, सामाजिक, हिन्दी हास्य व्यंग्य, election, Hasya Vyangya | Tagged: , , , , , , , , , | 2 Comments »

गया वो घर जिसमें बस गये साले (हास्य, व्यंग्य, कार्टून)

Posted by K M Mishra on March 27, 2009

नरेश मिश्र

 

साधो, सियासत के कबूतर खाने में बड़ी गहमा गहमी है । लालू यादव के साले साधु यादव ने बहनोई को खुदा हाफिज कह कर कांग्रेस का हाथ थाम लिया । अब लालू यादव भुन्नाकर साले को कोस रहे हैं । कोसने के सिवा कुछ कर भी नहीं सकते । ऋषी-मुनि होते तो साधु को शाप देते । उन्हें मलाल सिर्फ यही है कि घर में बसा साला भी साला बगावत कर बैठा ।

 

लालू यादव को वो गवईं कहावत भी याद नहीं रही जिसमें कहा गया है – गई वो दीवार जिसमें बन गये आले, गया वो घर जिसमें बस गये साले । साधु यादव सिर्फ नाम के ही साधु हैं । नाम में क्या रखा है । साधुओं को भी कुटी में रहना पसंद नहीं है । सारे साधु वन में चले जायें तो मठ-मंदिरों में राग, भोग और पंगत का प्रबंध कौन करे । करोड़ों में एक ही साधु ऐसा होता है जो गुफा से बाहर निकलना नहीं चाहता, बाकी साधु तो संसारियों के पड़ोस में ही बसना चाहते हैं ।

 

लालू यादव को सोचना चाहिए कि उनके साले को सियासत की ब्राउन शुगर उन्होंने ही चखाई थी । अब सियासी नशे की आदत पड़ गई है तो वो उसे कैसे छोड़ सकते हैं । सियासी आदमखोर जब सियासत के मानव रक्त का स्वाद चख लेता है तो तमाम जंगली जानवर उसके मेनू से गायब हो जाते हैं ।

 

लालूजी खानदानी सियासत पर जोर देने का नतीजा अच्छा नहीं होता है । साले- सालियों, बेटे-बेटियों, चचा, भतीजों, चमचों, चपरासियों और ड्राइवरों को मिलाकर एक सियासी पार्टी आसानी से बनाई जा सकती है। कुछ कसर रह जाये तो चरण चाटने वाले कोरम पूरा कर देते हैं । मजहब और जात का चुग्गा फेंककर वोटरों को आसानी से लुभाया जा सकता है । लेकिन ऐसे आसान नुस्खों से लोकतंत्र का कुछ भी भला नहीं होता है ।

 

लालूजी बिहार के मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़ते वक्त आपने अपनी धर्मपत्नी राबड़ी देवी को ही वारिस बनाया था । साधु यादव कम से कम राबड़ी देवी की बनिस्पत ज्यादा काबिल तो थे ही । अब उन्होंने हाथ का हाथ थाम लिया है तो इससे ज्यादा फर्क नहीं पड़ने वाला । यूं समझो कि थाली का घी थाली में ही फैल गया । चुनाव के बाद सोनिया जी को लालू की जरूरत जरूर पड़ेगी । गठबंधन सरकार की गणित का तकाजा है कि पुराने साथियों को सिर्फ उस हद तक नाराज किया जाये जिससे लोकसभा का हिसाब किताब दुरूस्त रहे ।

 

साधो, अगली सरकार की चाभी किसके पास है, इस मुद्दे पर मीडिया में अभी से बहस चल निकली है । मुलायम सिंह का दावा है कि उनकी मदद के बिना नवजात शिशु सरकार को आक्सीजन मिल ही नहीं सकती है । उसे जिलाये रखने के लिए समाजवादी इनक्यूवेटर की जरूरत पड़ेगी । मायावती दावे के साथ कहती हैं कि या तो उनकी सरकार बनेगी या उनकी मदद से सरकार बनेगी । पासवान चतुर खिलाड़ी हैं, वे कोई दावा नहीं करते लेकिन जानते हैं कि उनके सदस्यों की संख्या दहाई भी पार गई तो सरकार में उनकी हैसियत कम नहीं होगी । शरद पवार ने फिलहाल रणनीतिक मौन धारण कर लिया है, लेकिन यह मानना मूर्खता होगी कि वे प्रधानमंत्री पद के दावेदार नहीं हैं ।

 

यूपीए गठबंधन के सभी दल अपने खलीसे में कटार और बघनखा सहेज कर दिलकश मुस्कान बिखेर रहे हैं। वे गले मिलेंगे तो किसकी पीठ में खंजर चुभेगा और किस की आंत बघनखे से बाहर निकल आयेगी, इसके बारे में पहले से कुछ कहना मुश्किल है । हमारे लोकतंत्र के चुनावी महासमर में अब धर्म योध्दाओं की नहीं चलती । यहाँ तो शकुनियों का बोलबाला है । जो छल कपट के पांसे फैंकर इस जुए में जीत जाये,     वही हस्तिनापुर की गद्दी पर बैठेगा ।

 

 

– गई वो दीवार जिसमें बन गये आले, गया वो घर जिसमें बस गये साले ।

 

Posted in कार्टूनपर आधारित ब्लाग, कुरीतियों, चुनाव, बुराइयों, भ्रष्टाचार, राजनैतिक विसंगतियों, राष्ट्रीय, हिन्दी हास्य व्यंग्य, election, Hasya Vyangya | Tagged: , , , , , , , , , , | 1 Comment »

गरीबी का मारा अमीर रिक्शेवाला (हास्य-व्यंग्य,कार्टून)

Posted by K M Mishra on March 26, 2009

यह व्यंग्य लेख एक दूसरी  साईट पर ट्रान्सफर कर दिया गया है. लेख पढने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें.

गरीबी का मारा अमीर रिक्शेवाला

 

Posted in आर्थिक, कार्टूनपर आधारित ब्लाग, चुनाव, बुराइयों, भ्रष्टाचार, राजनैतिक विसंगतियों, राष्ट्रीय, सामाजिक, हिन्दी हास्य व्यंग्य, election, Hasya Vyangya | Tagged: , , , , , , , , , , , , | 2 Comments »

हनीमून खत्म, तलाक शुरू (हास्य-व्यंग्य)

Posted by K M Mishra on March 22, 2009

     -बड़ा आया है तलाक देने वाला । अम्मां का दूध पिया है तो बाहर निकल, जमीन में गाड़ न दिया तो मेरा नाम भी फिजा मुहम्मद नहीं ।                       

                                                                

                        

साधो, आने वाला आम चुनाव एक नजरिये से बेहद दिलचस्प है । इस चुनाव के नतीजे में कोई मजबूत सरकार बने ने बने लेकिन मनोरंजन का मसाला चटख रहेगा । हमारे लीडरान वोटरों का दिल बहलाते रहेंगे । दिल बहलाने के लिए पोस्टर, लेक्चर, नाच-गाने की जरूरत नहीं है । सियासी लीडरान का डांस देखकर तबीयत बाग-बाग हो जाती है ।

 

हरियाणा के उपमुख्यमंत्री, भजन लाल के वली अहद लख्ते ज़िगर जनाब चन्द्रमोहन ने अपनी ब्याहता को छोड़कर माशूका अनुराधा बाली के साथ इश्क का चक्कर चलाया । यह चक्कर किसी भी इंसान को घनचक्कर बना देता है । चन्द्रमोहन अनुराधा बाली के साथ गुमशुदा हुए तो उनकी तलाश में हरियाणा सरकार के पसीने छूट गये । वे महीनों बाद प्रकट हुए तो उनका बदला रूप देखकर पब्लिक दंग रह गई । वे चन्द्रमोहन से चांद मुहम्मद हो गये थे । अनुराधा बाली फिजा मोहम्मद की शक्ल में सारी फिजा को महकाने लगीं ।

 

चांद मोहम्मद को मुख्यमंत्री हुडा ने मंत्रिमण्डल से चलता किया । अनुराधा बाली उर्फ फिजा भी अपने ओहदे से हाथ धो बैठीं । दोनों का हनीमून चलता रहा । बूढे भजनलाल घायल पंछी की तरह तड़पते रहे, फिर पता चला कि चांद मोहम्मद ने अपनी फिजा को तीन बार तलाक कह कर इस फसानये इश्क का दी एण्ड कर दिया ।

 

आम चुनाव से पहले सियासी कबूतरखाने की गुटर गूं में चांद और फिजा जैसा माहौल नजर आता है । बिहार में यूपीए गठबंधन के घटक दलों ने कांग्रेस के साथ वही सलूक किया जो गये जमाने में बड़े जमींदार लोग अपनी परजा के साथ करते थे । कांग्रेस खुद को राजा समझती है । राजा को पता नहीं चला और मुसहर ने जंगल का बंटवारा कर लिया । कांग्रेस को कुल तीन सीट और लालू यादव, रामविलास पासवान को बाकी सीटें, कांग्रेस के दिग्गजों का खून खौल उठा । वक्त जो न कराये सो थोड़ा । दबी बिल्ली चूहे से कान कटाती है । चूहे कान काट रहे हैं, लेकिन बिल्ली खामोश बैठी है । वह दर्द से म्याऊं-म्याऊ भी नहीं कर सकती । अब कांग्रेस हाई कमान लालू, पासवान को लाख धमकायें कि वह बीस सीट पर अपने उम्मीदवार खड़े करेगीं, लेकिन लाचार कांग्रेस जमीनी हकीकत से वाकिफ हैं । वह जानती है कि बिहार में लालू, पासवान के आगे उसकी चमकाइयाँ, धमकाइयाँ का कोई असर होने वाला नहीं है । जमानत जब्त कराने के लिए कांग्रेस मन चाही सीटों पर उम्मीदवार खड़ा कर सकती है । लेकिन बिहार में अगर चलेगी तो वह लालू की रेल ही होगी ।

 

भुन्नाई कांग्रेस ने झारखंड में फौरन पलटवार किया । उसने जे.एम.एम. के साथ सीटों का बंटवारा कर सिर्फ दो सीट लालू की ओर उछाल दी । लालू भन्ना गये हैं । कांग्रेस ने उन्हीं के सिक्के में उनको भुगतान कर दिया । महाराष्ट्र में कांग्रेस और एन. सी. पी. के बीच सीट बंटवारे को लेकर रस्सा कसी चल रही है । कंाग्रेस ने धमकी दी है कि वह अपने बलबूते महाराष्ट्र की सभी सीटों पर चुनाव लड़ सकती है । लेकिन मराठा छत्रप शरद पवार कांग्रेस की जमीनी हकीकत से वाकिफ हैं । वे कांग्रेस की ही पैदाईश हैं । बड़ेरी तले का भूत सात पुश्तों का हाल जानता है । शरद पवार प्रधानमंत्री पद के स्वघोषित दावेदार हैं । उन्होंने कांग्रेस का यह फार्मूला खारिज कर दिया कि चुनाव के बाद प्रधानमंत्री की कुर्सी का फैसला होगा । ऐसा माहौल देख कर हमें पुराना फिल्मी गीत याद आ रहा है – हमीं से मुहब्बत, हमीं से लड़ाई, अरे मार डाला दुहाई, दुहाई ।

 

फिलहाल चुनाव के मैदान में हनीमून का परीयड खत्म हो गया । अब तीन तलाक का मौसम चल रहा है । आगाज़ ऐसा है तब अंजाम खुदा जाने ।

                                                                  – नरेश मिश्र

Posted in कार्टूनपर आधारित ब्लाग, चुनाव, भ्रष्टाचार, राजनैतिक विसंगतियों, राष्ट्रीय, सामाजिक, हिन्दी हास्य व्यंग्य, Hasya Vyangya | Tagged: , , , , , , | 2 Comments »

हस्तिनापुर में होली (हास्य-व्यंग्य, कार्टून)

Posted by K M Mishra on March 12, 2009

– हैप्पी होली अंकल-आंटी

और गुरू द्रोण की क्लास खत्म होते ही सभी राजकुमारों के हाथों में उनकी फाउंटेन पेन चमकने लगी । कुछ ही देर मे सभी की सफेद युनीफार्मों पर नीले रंग की चित्रकारी झलकने लगी थी । ”अरे क्या कर रहे हो । कुन्ती माँ डांटेगी । सारी की सारी युनीफार्म गन्दी करके रख दी ।” युधिष्ठर ने अनमने ढंग से बकवास की । ”जानते हो ऐरियल कितना मंहगा हो गया है । राज धोबिन धनिया भी हर कपड़े की धुलवाई होली पर बढा रही है । कहती है – बोनस भी चाहिए ।” कौरवों के छियालिसवें नम्बर के धृतराष्ट पुत्र ने भी धृष्टता का परिचय देते हुए अपनी अगली सीट पर बैठे हुए रसोईये के शत्रु, अन्न के दुश्मन, भारी भरकम भीम की टेरालीन की बुशर्ट पर अपनी पेन से स्याही की मात्र तीस-चालीस बूंदे प्रेम पूर्वक अंकित कर दी । अपने भाईयों में खाने पीने के मामले में सबसे उदार गदाधारी भीम ने भी फिर अत्यधिक उदारता का परिचय दिया और अपनी केमिल इंक की पूरी की पूरी बोतल ही नम्बर छियालिस पर उड़ेल कर धर दी । नम्बर छियालिस गदाधारी भीम की इस उदारता के समक्ष नतमस्तक हो गये क्योंकि इस कारवाई के दौरान श्री भीम को धोबीपाट नामक क्रिया को भी सम्पन्न करना पड़ा था ।

”ये कम्बख्त होली फिर से आगई । अबकी बार तो बिल्कुल नहीं खेलूँगा । पिछले साल छ: कटोरी बेसन और तीन टिक्की लाइफबॉय घिस डाली थी तब कहीं जाकर रंग हल्का हुआ था । सारा शरीर नहाने में इतना घिस गया था कि हेल्थ बनाने में दिपावली आ गई थी । एक तो मैं वैसे ही मासिक स्नान करने वाला आदमी हँ, इस गंदे महीने में तो दो बार नहान हो जाता है ।” अर्जुन होली से खिन्न हैं क्योंकि होली उसकी आइडियोलोजी से भिन्न है । पिछले साल तो उसका अश्वत्थामा से इसी बात पर झगड़ा हो गया था । बेचारे अश्वत्थामा का रंच मात्र भी दोष नहीं था । वह कतई बेकसूर था । बस उसने अर्जुन के मुँह पर पाव-आध पाव ग्रीस लगा दी थी । इसी बात पर दोनो नौजवानों ने भविष्य में होने वाले महाभारत युध्द की रिहर्सल भी कर ली थी ।

अपने बाबा भीष्म तो होली खेलना कब की छोड़ चुके हैं । रंग से वह नहीं डरते । डरते तो वो मामा शकुनी के रंगीन पानी भरे गुब्बारों से हैं । जिस साल दु:शासन पैदा हुआ था, उसी साल मामा शकुनी ने उन्हें अपने रंग भरे गुब्बारे के निशाने पर लिया था । गुब्बारा तो नहीं फूटा पर पितामह का बाँया बल्ब फूटते-फूटते बचा । वो तो उन्होंने विदुर की बनाई रामबाण औषधि का एक महीने तक लेप लगाया तब जाकर कहीं उनकी बांई ऑंख की रोशनी बची थी । बड़ी ऐतिहासिक होली थी मित्रों वो । क्यूंकि अगर पितामह भीष्म की एक हेडलाईट फ्यूज हो जाती तो महाभारत का अखिल भारतीय टूर्नामेंट कुछ जल्दी ही डिसाइड हो जाता और वेद व्यास की एक बोतल इंक भी बचती और बी. आर. चोपड़ा को महाभारत सीरियल के कुछ ऐपिसोड कम बनाने पड़ते । खैर । जैसी विधि की करनी । अब जिस युध्द को श्री कृष्ण जैसे कूटनीतिक, आर्म्स डीलर फाइनेन्स कर रहे हों, ऊ साला बिना हुए थोडे ही मानेगा । जैसी हरि इच्छा ।

मित्रों, व्सास जी ने गलत खबर उडाई थी कि धृतराष्ट जन्मांध थे । धृतराष्ट की दोनों ऑंखे बचपन में एकदम फस्स क्लास थीं । हुआ यों कि बचपन में एक होली पर धृतराष्ट, पांडू और विदुर तीनों बालकगण् आपस में पिचकारी लेकर होली-होली खेल रहे थे । इसी बीच खेल-खेल में विदुर की पिचकारी से बचने के चक्कर में पांडू ने कलाबाजी खाई तो उनकी पिचकारी की नोंक धृतराष्ट की ऑंख में घुस गई । अब काने धृतराष्ट हस्तिनापुर के राजा बनते तो बड़ी जगहंसाई होती, इसलिए बालक पांडू ने उनकी दूसरी ऑंख में भी पिचकारी की नोंक घूसेड़ कर उन्हें काना राजा के नाम से बदनाम होने से बचा लिया था । इस बात की पुष्टि बहुत बाद में विदुर ने कृपाचार्य से एक अनौपाचारिक मुलाकात में की थी मगर इस बात को ज्यादा तूल नहीं दिया गया था और बात बहुत पहले ही दबा दी गई थी । गदाधारी

भीम ने इस बार दुर्योधन को देख लेने की धमकी दे रखी थी । हुआ ये था कि मकर संक्रान्ति पर दुर्योधन ने भीम की लम्बी पतंग पर हत्था मार दिया था । इसी बात पर दोनो पहलवानों में पहले तो वाक युध्द हुआ । उसके बाद दोनों ने अपनी-अपनी पेन्ट उतार कर लंगोटे भी कस लिए थे पर क्लासटीचर द्रोणाचार्य उधर से निकल पड़े तो युध्दविराम हो गया था । मगर मन में खटास तो आ ही चुकी थी, जो बाद में महाभारत युध्द में जाकर खत्म हुई ।

उधर ब्रज में श्री कृष्ण गोपियों के साथ अबकी नये तरीके से होली खेलने का मन बना रहे थे, लेकिन राधा रानी को उनकी हर प्लानिंग की खबर पहले से ही लग चुकी थी इस लिए वो उनको नंदगांव के बाहर अपने सहेलियों संग घेरने का प्रोग्राम बना चुकी थीं । श्री कृष्ण को पिछले साल ही हस्तिनापुर में बाबा भीष्म से वार्निंग मिल चुकी थी कि ”होली होली की तरह खेलो और थोड़ा बुजुर्गों का भी लिहाज किया करो ।” हुआ ये था कि पिछली होली श्री कृष्ण ने हस्तिनापुर में मनाई थी और श्री कृष्ण का साथ पाकर सारे कौरवों-पाण्डवों ने वो ऊधम मचाया कि हस्तिनापुर वालों की नाक, कान, ऑंख, गले सबमे दम-दमा-दम करके रख दिया था । और तो और उस साल पहली बार लोगों ने हस्तिनापुर के राजदरबार में रंग चलते देखा था । इस सब के पीछे दिमाग किसका था । वही अपने माखन चोर का । नरक करके रख दिया था । जिधर देखो उघर रंग ही रंग । यहाँ तक की खाने पीने के सामानों तक में रंग घोल कर रख दिया । हस्तिनापुर की बालाओं का तो रंग पंद्रहियों नहीं छूटा था । और छूटे भी तो कैसे, सबसे पक्का रंग तो कन्हा ही ले कर आया था । वो होली लौण्डों को खूब याद रही । सबने श्री कृष्ण से अगली होली पर फिर आने की सिफारिश की थी मगर बुआ कुंती ने श्री कृष्ण के हाथ जोड़ कर कहा ”मोहन! ये ब्रज की होली तुम ब्रज में ही खेला करो, हस्तिनापुर वालों को अगली बार से बख्श देना ।” लेकिन इस बार श्री कृष्ण की होली भी कुछ फीकी पड़ने वाली थी ।
ऐन होली के चार दिन बाद ही कृष्ण के बोर्ड के पेपर शुरू हो रहे थे और बड़े भाई बलराम ने भी श्री कृष्ण को होली पर कम और पढाई पर ज्यादा ध्यान देने की नसीहत दी थी ।

Posted in कार्टूनपर आधारित ब्लाग, त्यौहार, पर्व, सामाजिक, हिन्दी हास्य व्यंग्य, Hasya Vyangya | Tagged: , , , , , , , , , , | 4 Comments »

लंकाई क्रिकेट टीम पर हमला (कार्टून)

Posted by K M Mishra on March 4, 2009

                                                                                                

                      —- लिल्लाह ! आखिर कब तक बचोगे हमारे खूनी शिकंजे से ।

                            

 

Posted in अन्तर्राष्ट्रीय घटनाओं, आतंकवाद, कार्टूनपर आधारित ब्लाग, खेल, बाजार, बुराइयों, भ्रष्टाचार, मीडिया, राजनैतिक विसंगतियों, हिन्दी हास्य व्यंग्य | Tagged: , , , , , , , | 3 Comments »