सुदर्शन

मास्टरमाइंड आतंकी हाफिज सईद बाइज्ज़त बरी (व्यंग्य/कार्टून)

Posted by K M Mishra on October 13, 2009

यह व्यंग्य लेख एक दूसरी  साईट पर ट्रान्सफर कर दिया गया है. लेख पढने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें.

 

मास्टरमाइंड आतंकी हाफिज सईद बाइज्ज़त बरी

7 Responses to “मास्टरमाइंड आतंकी हाफिज सईद बाइज्ज़त बरी (व्यंग्य/कार्टून)”

  1. Arvind Mishra said

    क्या कहने -व्यंग की धार जोरदार !

  2. कितने प्यारे हैं हाफिज सईद जी। कितनी मानवीय/पारिवारिक सम्बन्धों की भाषा का प्रयोग करते हैं!🙂

  3. sunil pandey said

    पंडित जी जय श्रीराम। आपने इंटरनेट की दुनिया में गर्दा काट दिया है। देखने के बाद यकीन ही नहीं हो रहा है कि यह आपका ही परोसा हुआ आइटम है। अदभुत…। एक एक लाइनों को बढने के बाद दोबारा लालसा हो रही है। ऐसा लग रहा है कि बार-बार इसे ही पढता रहूं। बहुत से शब्‍दों का प्रयोग आपने ऐसा किया है जो विद्वानों की दिमाग में भी नहीं होगा। वैसे अब आप देश की राजधानी दिल्‍ली या पिर मुंबई लेवल के टाप किस्‍म के लिखाडों की कतार में शामिल हो चुके हैं। ऐसे ही कलम गोचते रहिये, एक दिन पूरा देश आपको सलाम करेगा।

    आपका
    सुनील पाण्‍डेय
    नई दिल्‍ली
    09953090154

  4. गिरिजेश राव said

    @ ज़िंदगी दोज़ख हो गई है । दो महीने हो गये किसी कश्मीरी औरत के साथ जिना किये।

    … जब मुल्क के सिपाही बंदूक छोड़ कर अदालतों के चक्कर लगायेंगे तब परवरदिगार ही इस मुल्क पर रहम खा सकता है ।

    … मैं सरकार और मुलजिम दोनों का ही वकील हूं ।
    ___________________________________________

    मन भारी कर दिया। इसे किस श्रेणी के व्यंग्य में रखूँ? मैं क्या योग्यता रखता हूँ?

  5. K M Mishra said

    मन भारी कर दिया। इसे किस श्रेणी के व्यंग्य में रखूँ? मैं क्या योग्यता रखता हूँ?

    गिरिजेश जी आप मुझसे टनों अधिक योग्‍यता रखते हैं । अपने मुंह मियां मिठठू बनते हुये कह रहा हूं कि यह परसाई और मंटो दोनों की शैली का मिश्रण है । मन भारी कर देने के लिये क्षमा लेकिन पड़ोसी साला हर दिन मन भारी कर देता है और मनमोहन सरकार की‍ विदेश नीति भी ।

  6. भइया, कमाल कर दिए हैं. जितना आपका लिखा पढ़ता हूँ, आपके प्रति भक्ति उतनी ही बढ़ती जाती है.
    अब जइसन गिरिजेश जी के जबाब देहे हय~, हमके मति दिह्या~. तोहार सबसे बड़ा फैन हमही हई यार.

  7. Petra said

    Have you ever considered incorporating more videos to your weblog posts to keep the audience more entertained? I mean I just read through the entire article of yours and it was quite fantastic but since I’m more of a visual learner,I found that to be more handy well let me know how it turns out! Respectfully, Petra.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: