सुदर्शन

मुझ को तो माफ करो राखी सावंत (व्यंग्य/कार्टून)

Posted by K M Mishra on July 2, 2009

यह व्यंग्य लेख एक दूसरी  साईट पर ट्रान्सफर कर दिया गया है. लेख पढने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें.

मुझ को तो माफ करो राखी सावंत

30 Responses to “मुझ को तो माफ करो राखी सावंत (व्यंग्य/कार्टून)”

  1. anurag said

    vah mishra ji maza aa gaya aapka vayang pdkar…
    bahut hi achha likhte hain aap ismen koi shak nahi…

    ek bat aour aapne jo mera hosla
    badaya uske liye dil se aabhar……

    asha karta hu aap aage bhi isi tarah mera margdarshan
    aour hosla badate rahenge…..

  2. neeraj1950 said

    राखी की ही तरह चुलबुला व्यंग…बहुत मजा आया पढ़ कर…
    नीरज

  3. puneet kumar said

    HkkbZ okg Ñ’.k eksgu et+k vk x;k
    vuwi th ds cgkus bl ?kfV;k dk;ZØe dh
    bl cjlkrh /kqykbZ us eu ds Hkh lkjs eSy /kks Mkys
    cl blh rjg /kksrs jfg;sA
    t; gksA

  4. Jai Ho
    Bhai wah Krishna Mohan
    Mazaa aa gaya
    Anupji ke bahane is ghatiya Karykrim ki
    Is Barsati Dhulai ne to man ke saare mail dho dale
    Bas isi tarah dhote rahiye.
    Jai ho.

  5. ajayjha said

    वाह कृष्ण मोहन जी..क्या बात है..लेखनी की मार क्या कहूँ की कहाँ कहाँ तक पंहुची है…राखी का स्वयाम्बर तो लगता है ..रक्षाबंधन तक पहुँच कर ही ख़त्म होगा..मजा आ गया..

  6. गुस्से और तिलमिलाहट की जो आग सुलग रही थी राखी के इस नौटंकी को देखकर ,आपके इस लेख को पढ़ उसपर थोड़ी ठंडी फुहार पडी….सुकून मिला……

    सुन्दर व्यंग्य…आभार.

  7. रंजना जी, आप हर बात को इतना गम्भीर होकर क्यों सोचने लगती हैं? ये मनोरंजन उद्योग की तारिकाएं हैं। इन्हें अपना काम करने दीजिए और इनसे विशुद्ध मनोरंजन करके मन को हल्का कर लीजिए। ये हमारे समाज के आदर्श पात्र नहीं हैं।

    कृष्णमोहन जी, आपको राखी के अतिथियों की मेलिंग लिस्ट कहाँ मिली। उसका नाऊ आपका दोस्त तो नहीं है। नेवता बाँटने के लिए आपसे लोकेशन पूछने आया था क्या?

  8. भाई मिश्र जी
    बड़ा ही जोरदार व्यंग्य है आनंद आ गया . बधाई

  9. कौन राखी सावन्त? शिवाजी सावन्त के उपन्यास का अनुवाद किया है क्या इन्होंने?

  10. राखी सावंत जी हमेशा की तरह गच्चा दे सकती हैं। जिनके लिये राखी लायीं उनको जोड़कर गठबंधन भी कर सकते हैं। बचकर रहना। ज्ञानजी और राखी के बारे में हम कुछ न कहेंगे। इस मामले में बयान देने का अधिकार केवल आलोक पुराणिक जी के पास है।🙂

  11. हा हा हा!

  12. bhaiyaa maza aa gaya ji

  13. बहुत खूब!

    शादी-शुदा लोगों को क्यों आमंत्रित किया राखी सावंत जी ने? क्या खुद को श्रीदेवी साबित करना चाहती हैं ये?…:-)

  14. बेगानी शादी में अब्दुल्ले दीवाने..
    प्रेफिक्सेड मैच में दूल्हा-दूल्हा खेलने वालों को बधाई.
    आपने अच्छा लेख लिखा है.

  15. भी मुझे नहीं पता था कि मुझे निमंत्रण देने वाली थी.

    मुझे भी लगा था मेरा नाम में रावण देख कर पक्का बुलायेगी. अभी तक इंतजार है और पहला वाला शो हो भी गया.

    वो रवि किशन सच्ची में भईए लग रहा था उसका.😉

    आप का तो जवाब नहीं, चाचा अनूप के साथ हमको खड़ा करवा दिए.

  16. बहुत खूब!!!

  17. आप को भी जाना चाहिये, चाहे छुपते छुपाते ही जाते.

  18. Neha said

    अपने ड्राइवर से ही शादी कर लो राखी!

    राखी सावंत का स्वयंवर एक महज मूर्खतापूर्ण मजाक है। 21 जुलाई को दिखाये गये एपिसोड में राखी सावंत ने मनमोहन तिवारी के घर जाकर परिवार के लोगों से मिलने के बाद सबके बारे में काफी भला-बुरा कहा। यहां तक कि राखी सावंत ने मनमोहन तिवारी से कहा कि तुमसे ज्यादा अच्छा तो मेरा ड्राइवर है।
    अगर राखी सावंत का ड्राइवर वाकई मनमोहन तिवारी से ज्यादा अच्छा है तो वह अपने ड्राइवर से ही शादी क्यों नहीं कर लेती? उसे स्वयंवर करने की जरूरत ही क्या थी?
    नेहा, रांची

  19. I’m still learning from you, but I’m making my way to the top as well. I absolutely love reading all that is posted on your blog.Keep the posts coming. I liked it!

  20. Keep functioning ,fantastic job!

  21. Janita said

    Hey – nice blog, just looking around some websites, seems a pretty nice platform you are using. I’m currently using Drupal for a few of my sites but looking to change one of them over to a platform related to yours as a trial run. Anything in particular you would advise about it? My best wishes, Janita.

  22. Hiya! I simply would like to give a huge thumbs up for the good info you could have here on this post. I will probably be coming back to your weblog for extra soon.

  23. Right after reading this posting, I pondered the same point that I invariably wonder about when scanning new blogs and forums. Just what do I believe about this? Precisely how need to it effect me? This and extra posts on your weblog here certainly give some stuff to look at. I fundamentally ended up right here by means of Yahoo when I was very first performing some internet research for some course work that I’ve. Usually good times browsing through and I’m hopeful that you’ll keep on writing new posts. Cheers!

  24. Aw, this was a really nice post. In idea I wish to put in writing like this moreover – taking time and precise effort to make a very good article… however what can I say… I procrastinate alot and not at all seem to get one thing done.

  25. ajay panda jordan said

    बहुत खूब!!!

  26. ndered the same point that I invariably wonder about when scanning new blogs and forums. Just what do I believe about this? Precisely how need to it effect me? This and extra posts on your weblog here certainly give some stuff to look at. I fundamentally ended up right here by means of Yahoo when I was very first performing some internet research for some course work that I’ve. Usually good times browsing through and I’m hopeful that you’ll keep on writing new pos

  27. click here said

    Hi, I just hopped over to your web-site via StumbleUpon. Not somthing I would usually read, but I appreciated your views none the less. Thank you for making something well worth browsing.

  28. Jai BHARAT said

    Hello Rakhi Humara Kutte ki shaddi nhe hue h abi syambar rkha h aa jao number aaye jay kya pta…

  29. Warren said

    It is not my first time to pay a visit this
    website, i am visiting this web site dailly and take nice information from here every day.

  30. gta v said

    Hello there! This is my 1st comment here so I just wanted to give a quick shout out and
    say I really enjoy reading your articles. Can you recommend any other blogs/websites/forums that deal with
    the same subjects? Thanks a lot!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: