सुदर्शन

राग दरबारी : २ (हास्य/व्यंग्य/कार्टून)

Posted by K M Mishra on June 24, 2009

यह व्यंग्य लेख एक दूसरी  साईट पर ट्रान्सफर कर दिया गया है. लेख पढने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें.

राग दरबारी : २

13 Responses to “राग दरबारी : २ (हास्य/व्यंग्य/कार्टून)”

  1. भैया गजब लिख दिए..गजब लिख दिए.

    पढना शुरू किये त एक सांस में ही पूरा पढ़ लिए. रुकने का ज़रुरत महसूस नहीं हुआ. बहुत अद्भुत लेखन है. आपको पढि के बहुत कुछ सीखा जा सकता है. त हम आज से एकलव्य बन गए है.

    “अब इ सारे का खेलहीं किरकेट-उरकेट । बांड़ी बिस्तुइया बाघन से नजारा मारे ।”

    माने पढि का कईसन लगा ई बताऊब बहुत मुश्किल काम बा. अब मोंहे से न बकरि सकब…..:-)

  2. neeraj1950 said

    मिश्रा जी अब क्या कहें…ऐसे लोट पोट हो कर हँसे हैं की आस पास वालों को लगने लगा की ससुरे को मिर्गी की बीमारी तो नहीं हो गयी….कल तो अच्छा भला था…आज अगर श्रीलाल शुक्ल जिन्दा होते (हमारी समझ में वो गो लोक वासी हो चुके हैं, वैसे हमें अपनी समझदारी पर हमेशा शंका ही रहती है) तो वो आपकी ये पोस्ट पढ़ कर पीठ थपथपाने खुद चले आते…
    राग दरबारी के बाद उसी शैली में लिखा इस तरह का लेख हम पहली बार पढ़ रहे हैं…वो ही तेवर वो ही भाषा…लगता ही नहीं की ये राग दरबारी का कोई अंश नहीं है…विलक्षण लेखन है आपका…कमाल किये हैं आप…हमारी दिल से बधाई स्वीकारें…

    आशा करता हूँ की कभी भविष्य में आप ज्ञान चतुर्वेदी जी के उपन्यास “मरीचिका” की तर्ज़ पर भी अपना लिखा पढने का मौका देंगे…

    आप का पता (ब्लॉग का भाई…डरें नहीं) नोट कर लिया है अब कभी भी बिना खटखटाए आते रहेंगे….
    नीरज

  3. वाह! वाह! रागदरबारी क सीक्वेल छपै के चाही!

  4. वाह भाई कृ्ष्णमोहन जी, आपने तो आज लूट लिया ब्लॉगजगत को। यह आलेख तो मढ़वा कर रखने लायक है। राग-दरबारी पढ़े सत्रह साल हो गये थे। अब दुहराने का मन हो गया है। आपने गजब का आइडिया फिट किया है यहाँ। बधाई और शत्‌-शत्‌ शुभकामनाएं।

  5. गजब सन्नाट लेखन. आनन्द आ गया. बहुत बेहतरीन!!

  6. पेट फाड़ने का इरादा करके लिखते है ? आपके ब्‍लाग पर तो आते हुये सोचना पड़ेगा कि …… बार बार कैसे आया जाये।🙂

  7. आनन्दित हुये बांच कर!

  8. paritosh mishra said

    bhai saab itna mast lekhan aaz tak nahi padha . mera aapse anurodh hai ki hamesha apne lekhan se hume aise hi gudgudate rahein. really u will definitely be no.1 one day .
    best wishes

  9. Dr. Kailash Mishra said

    Maza Aa gaya. Arse baad itani badhiya bhasha apne pure prawah mein padhane ko mili.
    Aap Hindi ki badi ummeed hein.

  10. vijay shukla said

    ABSOLUTE MIND BLOING

  11. Eva Moyer said

    You made some clear points there. I looked on the internet for the subject and found most persons will go along with with your website.

  12. Lakiesha said

    This is specifically what i was looking for. many thanks for the informative article and keep up the fantastic work! My best wishes, Lakiesha.

  13. wpolscemamymocneseo said

    Nice!! Great Ifo. Great People. Great Blog. Thank you for all the great sharing that is being done here

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: