सुदर्शन

भारतीय वायुसेना को मिली गिद्ध दृष्टि (व्यंग्य/कार्टून)

Posted by K M Mishra on May 27, 2009

=>सर जी! ये रहा पूरी पाक वायुसेना का इस्तीफा । भारत के पास अवाक्स आने के बाद अब अपना कोई भी लड़ाकू जहाज सीमा पार से सही सलामत वापस लौटने से रहा । या फिर आप कहो तो अपने सभी जेट फाइटर्स को पेसेंजर प्लेन में तब्दील करवा दें । टूरिज़्म को बढावा मिलेगा,  चार पैसे भी मिल जायेंगे और अमेरिका से भीख भी नहीं मांगनी पड़ेगी ।

एक लम्बी जद्दोज़हद के बाद भारत को आखिर ‘अवास्क’ मिल ही गया । दुनिया के तमाम देशों ने,  यहां तक कि अमेरिका ने भी हमें ठेंगा दिखा दिया था लेकिन आखिर में हमारी मेहनत रंग लायी और हमें हमारा पहला ‘अवाक्स’ रडार मिल गया । इज्ऱाइल से 1-1 अरब डालर में 3 अवाक्स रडारों का सौदा हुआ । इन रडारों को रूस के तगड़े मालवाहक जहाज आई. एल. -76 पर लगाकर तैयार किया जायेगा हमारा पहला गिद्ध दृष्टि वाला बाज ‘अवाक्स’ । 2010 तक भारतीय वायुसेना को बाकी 2 और अवाक्स रडार मिल जायेंगे । 3 और अवाक्स रडारों की खरीद के लिए अभी बातचीत चल रही है । बाद में इसे भारत में ही विकसित किया जाने लगेगा ।

क्या है अवाक्स ? अवाक्स का पूरा नाम है ‘एयर बोर्न वार्निंग एण्ड कंट्रोल सिस्टम’ । ये एक प्रकार का रडार होता है जो कि बोइंग साइज़ हवाई जहाज की पीठ पर लगाया जाता है । फिलहाल ऐसा रडार कुछ गिने चुने देशों के ही पास है । दक्षिण एशिया में भारत पहला देश होगा जिसके पास ऐसा रडार है ।

अवाक्स के आने से भारतीय वायुसीमा ज्यादा सुरक्षित हो जायेगी और किसी भी प्रकार के वायु हमले को हम बहुत पहले ही पहचान कर नष्ट कर देंगे । ज़ाहिर है इसके आने से हमारे पारंपरिक शत्रु पाकिस्तान की नींद हराम हो जायेगी क्योंकि अब वह हमला करने के पहले सौ बार सोचेगा । वैसे पाकिस्तानी फौज को अल्जाईमर्स की बीमारी है । हर युद्ध में बल भर लात खाने के बाद भी वह सुधरती नहीं और अगली बार किस तरह से भारतीय सेना के हाथों बेइज्ज़त होना है इसकी तैयारी शुरू कर देती है । अब कुत्ते की पूंछ को कोई दोष दे सकता है । पतंगे हैं, जानते है कि शमा के पास जायेंगे तो जल भुन कर राख हो जायेंगे लेकिन क्या करें,  आदत से बाज़ थोड़े ही आयेंगे । जेनेटिकल प्राब्लम है । मो0 अली जिन्ना में थी इसलिए उनके लायक वशंजों में भी है ।

एक अवाक्स रडार 400 कि.मी. तक बड़ी बारीक नज़र रख सकता है । 400 कि.मी. के दायरे में उड़ने वाला कोई भी यान इसकी नज़र से बच नहीं सकता । अवाक्स पल भर में बता देता है कि कौन सा विमान दुश्मन देश का है और कौन सा अपने देश का । विमान किस कम्पनी का है,  मालवाहक है या यात्री विमान या फिर युद्धक विमान । यहां तक कि ब्लास्टिक मिसाइलें और क्रूज़ मिसाइलें भी इसकी नज़रों को धोखा नहीं दे सकतीं । पाकिस्तानी सब सोनिक क्रूज़ मिसाइल ‘बाबर’  अब भारत की वायु सीमा में प्रवेश करते ही गिरा दी जायेगी । अवाक्स एक साथ 400 निशानों पर निगाह रख सकता है और 60 निशानों पर एक साथ हमला कर सकता है । इसको दुबारा ईंधन भरने के लिए जल्दी ज़मीन पर आने की भी जरूरत नहीं पड़ती क्योंकि इसमें हवा में ही ईंधन भरने की सुविधा है । बड़ी जल्दी ही इसको भारत के पहले सैन्य उपग्रह से जोड़ दिया जायेगा तब इसकी क्षमता में और वृद्धि हो जायेगी ।

मित्रों,   हमारे परम शत्रु पाकिस्तान की एक सबसे बड़ी कमज़ोरी है उसकी भौगोलिक स्थिति । पाकिस्तान की चैड़ाई मात्र 400 से 500 कि.मी. है । इसके अलावा पाकिस्तान के सभी समृद्ध और बड़े शहर कराची से लकर पेशावर तक सिर्फ एक 150 कि.मी. की पतली सी पट्टी में ही सिमटे हुए हैं । इसीलिए दुनिया भर के युद्ध विशेषज्ञ ये मानते हैं कि अगर भारत पाकिस्तान को मटियामेट करना चाहे,  वह भी बिना आणविक हथियारों के तो भी उसको मुश्किल से 7 से 10 दिन ही लगेंगे । वज़ह साफ है । हमको सिर्फ 150 कि.मी. की पतली पट्टी पर कब्ज़ा करना होगा । पाकिस्तान ये बात अच्छी तरह से जानता है । इसलिए वह अपना मुख्य युद्धक विमान एफ-16 इरान की सीमा से सटे शहर चगाई,  बलुचिस्तान में रखता है । वह भली भांति जानता है कि भारत से लड़ेगें तो फ़ना फ़िल्ला हो जायेंगे । लेकिन वो बेचारा भी क्या करे । जिन्ना साहब उसे एक अनुवाशिंक बीमारी दे गये हैं भारत से लड़ते रहने की । प्यारे पड़ौसी,   सुबह-शाम प्राणायाम किया करो । इससे सभी प्रकार की बीमारियां ठीक हो जाती हैं । तुम्हारी भी ठीक हो जायेंगी । अब देखो न आतंकवाद की जो विष बेल तुमने हमारे लिए लगाई थी वो अब तुम्ही को जकड़ कर तुम्हारा खून पी रही है । दसियों लाख स्वात निवासी आज शरणार्थी  बने दर दर की ठोकरें खाते घूम रहे हैं ।  आधा पाकिस्तान गृहयुद्ध की आग में जल भुन कर भुट्टा हो गया है । तुमने तो पड़ौसी की एक आंख फोड़ने के लिए अपनी दोनो ही आंखें फोड़ लीं ।

6 Responses to “भारतीय वायुसेना को मिली गिद्ध दृष्टि (व्यंग्य/कार्टून)”

  1. वापसी पर बधाई.
    यह आपने इनकी खूब लगाई.

  2. “इसीलिए दुनिया भर के युद्ध विशेषज्ञ ये मानते हैं कि अगर भारत पाकिस्तान को मटियामेट करना चाहे, वह भी बिना आणविक हथियारों के तो भी उसको मुश्किल से 7 से 10 दिन ही लगेंगे ।”
    ———
    ध्यान देने योग्य बात कही है आपने।

  3. I saw something about that topic on TV last night. Nice article.

  4. Very well written post. It will be supportive to anyone who utilizes it, as well as myself. Keep up the good work – looking forward to more posts.

  5. Towanda said

    Howdy, I discovered your blog through Google while looking for 1st aid for a heart attack and your post seems to be quite fascinating for me. My best regards, Towanda.

  6. […] The key issues for The Davis collection on entering the Australian market can be identified by a SWOT analysis. Strengths: – Profitability The Davis Supply Collection has been successful in generating profit and growing, they had generated pre-tax profits of 82 million pounds in 2007, which was one million up from the previous year, after that they did have a dip due to the recession as all business were hit and The Davis Supply Collection lost some customers who suffered from the global recession however they did a abundance bigger than most other business as The Davis Supply… More information: click here […]

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: